SC के महत्वपूर्ण मामले –

Cases that must be know in legal point of view case are most important thing that solve some legal issue , Because case study give a best and broad thinking power to handle a particular matter so that is the reason we are here put some cases that must be know that help to you. SC के महत्वपूर्ण मामले

यहां हम कुछ महत्वपूर्ण केस के बारे में आपको बताएंगे जो आपके स्टडी में आपकी सहायता करंगे SC के महत्वपूर्ण मामले

जगदीश राम बनाम राजस्थान राज्य –

ऍफ़ आई आर का विलम्भ होना ।

ललिता कुमारी बनाम यूपी राज्य

गंभीर मामलों में ऍफ़ आई आर अनिवार्य ।

एस आर सुकुमार बनाम सुन्नद रघुराम-

शिकायत संशोधन किया जा सकता है

शिवशंकर सिंह बनाम बिहार राज्य

मल्टीपल ऍफ़ आई आर दर्ज करना

उत्तर प्रदेश राज्य बनाम सिघारा सिंह –

आवश्यक प्रभाव से धारा164 मजिस्ट्रेट को उसके द्वारा किये गए कबूलनामा के मौखिक साझ्य देने से रोकती he

जोगिन्दर कुमार बनाम यूपी राज्य –

गिरफ्तार व्यक्ति के अधिकारों से सम्ब्न्धित सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश ।

सत्यपाल सिंह बनाम मप्र राज्य –

मृतक पीड़ित के पिता को अपील करने का अधिकार ।

सी बी आई बनाम अनुपम जे कुलकर्णी –

पुलिस रिमांड 15 दिन से अधिक नहीं की जा सकती हे

दीना नाथ बनाम सम्राट –

जटिल व् गंभीर मामलो में कोई सारांश नहीं ।

सुरेंद्र सिंह बनाम यूपी राज्य –

जहां एक जज ने जजमेंट लिखा तो उसकी डिलेवरी होने या सुनाये जाने से पहले ही उसकी मृत्यु हो गई , दूसरा जज उसे डिलीवरी नहीं कर सकता ।

नरेश बनाम यूपी राज्य –

हाईकोर्ट द्वारा सेक्शन 304 ipc के लिए कन्वेंशन सेक्शन 302 ipc में परिवर्तन crpc के सेक्शन 362 के लिए उचित नहीं हे ।

अशोक कुमार बनाम U O इंडिया –

CRPC की धारा 433-A की संबैधानिक वैधता।

गुरुबक्श सिंह सिब्बिया बनाम पंजाब राज्य –

अग्रिम जमानत से संबंधित सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश ।

राज्य के सांसद बनाम मदन लाल –

बलात्कार के मामलो में कोई समझौता नहीं ।

महत्वपूर्ण मामले आपको बताएंगे जो तैयारी में आपकी सहायता करंगे

मोहम्मद अहमद खान बनाम शाह बानो बेगम –

सी आर पीसी SECULAR की धारा 125.

डी के बसु बनाम बंगाल राज्य –

गिरफ्तार व्यक्ति के अधिकारों से संबंधिंत सुप्रीम कोर्ट दिशा निर्देश

शिला बरसे बनाम महराष्ट्र राज्य –

गिरफ्तारी से संबंधित महिलाओ के अधिकार ।

नीलवती बहेरा बनाम ओडिशा राज्य –

गैरकानूनी गिरफ्तारी और बंदी के मामलो में मुआवजा ।

चुनमुनिया बनाम वीरेंदर कुमार सिंह कुशवाहा –

लिव इन रिलेशनशिप में रखरहाव का अधिकार ।

मप्र राज्य बनाम रुस्तम –

CRPC की 60-90 दिन की अवधि की गरणा

मुबारक अली बनाम बॉम्बे राज्य –

अधिनियम जहां किया जाता अपराध ।

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आमतौर पर FIR के बारे में सभी लोग जानते है पर इसके साथ साथ ज़ीरो ZERO FIR क्या होता है आईंए जानते है-आमतौर पर FIR के बारे में सभी लोग जानते है पर इसके साथ साथ ज़ीरो ZERO FIR क्या होता है आईंए जानते है-



सबसे पहले ये जाने की FIR क्या होती है और कैसे दर्ज की जाती है :- जैसे की हम जानते है की जब किसी अपराध की सूचना पुलिस अधिकारी को दी जाती है, तो उसे FIR कहते हैं। इसका पूरा रूप है ‘फर्स्ट इनफॉरमेशन रिपोर्ट। जानकारी के लिए बता दे पुलिस