Author: RAA..

जुवेनाइल जस्टिस केयर प्रोटेक्शन ऑफ़ चिल्ड्रेन एक्ट के तहत बच्चो द्वारा किये गए किसी अपराध का निर्धारण एवं संरक्षण-जुवेनाइल जस्टिस केयर प्रोटेक्शन ऑफ़ चिल्ड्रेन एक्ट के तहत बच्चो द्वारा किये गए किसी अपराध का निर्धारण एवं संरक्षण-



जब किसी बच्चे द्वारा कोई कानून-विरोधी या समाज विरोधी कार्य किया जाता है, तो उसे किशोर अपराध या बाल अपराध कहते हैं। कानूनी दृष्टिकोण से बाल अपराध 8 वर्ष से अधिक तथा 16 वर्ष से कम आयु के बालक द्वारा किया गया कानूनी विरोधी कार्य है, जिसे कानूनी कार्यवाही के

Ipc के धारा 323,504,506 क्या है?Ipc के धारा 323,504,506 क्या है?



अक्सर आप लोगो ने सुना होगा की घर के बगल में, या कही आस पास मोहल्ले में या कही दूर गावं में दो पक्षों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया, यह विवाद इतना बढ़ गया की धमकी ,मार पीट, गाली गलौज की नौबत आ गयी। विवाद में घायल पक्ष की

आमतौर पर FIR के बारे में सभी लोग जानते है पर इसके साथ साथ ज़ीरो ZERO FIR क्या होता है आईंए जानते है-आमतौर पर FIR के बारे में सभी लोग जानते है पर इसके साथ साथ ज़ीरो ZERO FIR क्या होता है आईंए जानते है-



सबसे पहले ये जाने की FIR क्या होती है और कैसे दर्ज की जाती है :- जैसे की हम जानते है की जब किसी अपराध की सूचना पुलिस अधिकारी को दी जाती है, तो उसे FIR कहते हैं। इसका पूरा रूप है ‘फर्स्ट इनफॉरमेशन रिपोर्ट। जानकारी के लिए बता दे पुलिस

Gold कारोबारियों को होने वाली कानूनी समस्याएं –Gold कारोबारियों को होने वाली कानूनी समस्याएं –



शुरुआती समस्या चोर जब भी जेबर किसी सुनार की दुकान मे बेचता है तो यह नही बताता कि यह सामान चोरी का है , बेचारा दुकानदार जेवर खरीदकर फँस जाता है और आईपीसी की धारा 411 और 412 के तहत कार्यवाही होने लगती है .. धारा 411 एवं 412 से

कानूनी अधिकार जो हर भारतीय नागरिक को पता होकानूनी अधिकार जो हर भारतीय नागरिक को पता हो



१.शाम के वक़्त महिलाओ की गिरफ़्तारी नहीं –  Code of criminal processer , 1973  section 46  के तहत शाम ६ बजे के बाद और सुबह के ६ बजे तक पुलिस किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती फिर अपराध कितना भी संगीन क्यों ना हो।अगर कोई भी पुलिस अधिकारी