Anurag soni v/s state of chhatisgarh (SC)order dated :09 April 2019

यदि कोई व्यक्ति शादी का झूठा वादा करके किसी लड़की से योन संबंध बनता हे तो यह बलात्कार के सामान होगा ।

प्यार सब कुछ नहीं होता क्युकी प्यार के पीछे हवस भी होती हे जिसे प्यार का नाम नहीं दिया जा सकता हे इसी संबंध में यह वकया छत्तीसगढ़ से आया तो सुप्रीम कोर्ट ने हालही के दिनों में आदेश जारी किया और इसे रपे का नाम दिया ,

MURDER BEHINDE RAPE ..

Lot of cases on rape and

  1. latest case on Rape..

    अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।

  2. Lot of cases on rape andlatest case on Rape..
    अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।अभियुक्त द्वारा इस प्रकार प्राप्त लड़की की सहमति को सहमति नहीं माना जायेगा क्योकि यह सहमति धोखाधड़ी से प्राप्त की गई थी ।

everyone has a power but they do not know himself..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कानूनी अधिकार जो हर भारतीय नागरिक को पता होकानूनी अधिकार जो हर भारतीय नागरिक को पता हो



१.शाम के वक़्त महिलाओ की गिरफ़्तारी नहीं –  Code of criminal processer , 1973  section 46  के तहत शाम ६ बजे के बाद और सुबह के ६ बजे तक पुलिस किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं कर सकती फिर अपराध कितना भी संगीन क्यों ना हो।अगर कोई भी पुलिस अधिकारी

Gold कारोबारियों को होने वाली कानूनी समस्याएं –Gold कारोबारियों को होने वाली कानूनी समस्याएं –



शुरुआती समस्या चोर जब भी जेबर किसी सुनार की दुकान मे बेचता है तो यह नही बताता कि यह सामान चोरी का है , बेचारा दुकानदार जेवर खरीदकर फँस जाता है और आईपीसी की धारा 411 और 412 के तहत कार्यवाही होने लगती है .. धारा 411 एवं 412 से